भारत के प्रमुख दर्रे 2021 | Major Passes in India

भारत के प्रमुख दर्रे | Major Passes In India. आज के नए और फ्रेश आर्टिकल में आपको 2021 के आधार पर भारत के प्रमुख दर्रे की सूचि (Major Passes list in India) और Passes के बारे में विस्तार से जानकारी देने वाले है।

भारत में दर्रे को 2 पार्ट में बांटा गया है। पहले दर्रो को हिमालय के पर्वतीय राज्यों (Mountain Pass) में और दूसरा दर्रे को भारत के प्रायद्वीपीय (Plateau area) क्षेत्र राज्यों में विभाजित किया गया है।

भारत के प्रमुख दर्रे का महत्व (Importance of Passes in India) परिवहन, व्यापार, युद्ध एव अन्य कामो में होता है।

बहुत बार कोई न कोई एग्जाम ऐसा होता है जिसमे भारत के प्रमुख दर्रे (Important Passes in India) से जुड़ा हुआ सवाल देखने को मिलता है। इस दर्रे (darre) के टॉपिक को आप अच्छी तरीके से पढ़ लेते है तो आपको आने वाले एग्जाम में आपको पूरा नंबर दिलाने वाला है। Major Passes In India

दर्रा क्या होता है? – Passes

Contents

दर्रा (Darra/Passes)| अगर आप पहली बार दर्रे के बारे में पढ़ रहे है तो आपके दिमाग में दर्रा क्या है? के बारे में जानने को लेकर उत्सुकता रही है।

दर्रा यानी Pass से मतलब भारत की पर्वत श्रंख्ला (Mountain range) के बीच का area यानी की दो पहाड़ो के बीच का क्षेत्र जहा से प्राकृतिक आवगमन का क्षेत्र ही दर्रा कहलाता है।

अगर हम हमारी साधारण भाषा में समझे दर्रे के बारे में (Pass) तो जब हम कही पर जाते है तो देखा होगा बहुत बार हमारे दोनों यानी हम दोनों तरफ से पर्वत श्रंख्ला (Mountain range) से घिरे जाते है। हम जिस क्षेत्र में होते है वही दर्रा कहलाता है।

भारत के प्रमुख दर्रे को कितने भागो में वर्गीकरण गया हैं?

भारत में दर्रो का वर्गीकरण | भारत में दर्रे को 2 भागो में वर्गीकरण किया है। मुख्या रूप से दर्रो को 7 राज्य और 1 केंद्रशासित प्रदेश (Union territries) में अंतर्निहित है।

  1. हिमालय के पर्वतीय श्रंख्ला (Mountain Range) के राज्यों और केंद्रशासित प्रदेश में
    1. केंद्रशासित प्रदेश – जम्मू कश्मीर
    2. राज्य
      1. हिमाचल प्रदेश
      2. उत्तराखंड
      3. सिक्खिम
      4. अरुणाचल प्रदेश
      5. मणिपुर
  2. प्रायद्वीपीय भारत में पाए जाने वाले दर्रे (Plateau Passes in India )
    1. राज्य
      1. महाराष्ट्र
      2. केरल

जम्मू कश्मीर में दर्रे

  • जम्मू कश्मीर
    • काराकोरम दर्रा (Karakoram Pass)
    • जोजिला दर्रा (Jojhila Pass )
    • पीरपंजाल दर्रा (Peer Panjal Pass )
    • बनिहाल दर्रा (Banihal Pass)
    • बुर्जिला दर्रा (Burjila Pass)

काराकोरम दर्रा (Karakoram Pass)

काराकोरम दर्रा (Karakoram Pass)|

  • काराकोरम दर्रा भारत का सबसे बड़ा दर्रा है.
  • काराकोरम शब्द की उत्पति तुर्की भाषा से शब्द कारा + कोरम शब्द से हुई है. कारा का मतलब काला और कोरम का अर्थ बाजरा होता है. यानी काला बाजरा या छोटे कंकड़ होता है.
  • इस दर्रे के आस – पास में कोई वनस्पति नहीं उगती है क्योकि यह काराकोरम दर्रा अधिक उचाई पर है. यहाँ से जानवर गुजरने के कारन वनस्पति न मिलने के कारन मृत्यु हो जाती है.
  • काराकोरम दर्रे में रस्ते में जानवरो की हड्डिया मिलती है.
  • इस दर्रे की उचाई समुन्द्र तल से 5654 मीटर की उचाई पर है.
  • यह काराकोरम पर्वत श्रेणी में आता है.
  • यह दर्रा चीन और पाक के कब्जे वाले कश्मीर को एक दूसरे से जोड़ता है.

जोजिला दर्रा (Jojhila Pass )

जोजिला दर्रा (Jojhila Pass )|

  • जोजिला दर्रा भारत के हिमालय के लद्दाख क्षेत्र में पड़ता है.
  • हिमालय पर्वत श्रंखला (Mountain Range) के पश्चिम भाग में National Highway 1 श्रीनगर और लेह के बीच से निकलता है. इसलिए हरसाल इस मार्ग पर भरी बर्फ़बारी होती है जिसके कारन परिवहन का आवागमन में बाधा आती है इसके लिए जोजिला टनल का निर्माण किया जा रहा है.
  • जोजिला का अर्थ – बर्फ की बरसात का दर्रा होता है.
  • इस दर्रे (पास) की उचाई समुन्द्र की तली से लगभग 3,580 मीटर की उचाई पर है.
  • जोजि ला दर्रा श्रीनगर और लेह पर National Highway 1 पर फोटू ला दर्रे के बाद दूसरा बड़ा दर्रा है.
  • जोजि ला टनल | जोजिला सुरंग को भारत सरकार द्वारा निर्माण के लिए 2018 में मंजूरी दी गयी. और जोजि ला टनल के कार्य को स्वीकारती मई 2018 में माननीय नरेंद्र मोदी द्वारा दी गयी. इस सुरंग की लम्बाई 14 किलोमीटर की है। आगे आने वाले समय में एशिया की सबसे बड़ी tanal होगी.
  • यह जोजी ला दर्रा कश्मीर घाटी को लेह से जोड़ता है. और जास्कर पर्वत श्रेणी (Jaskar mountain range) में यह आता है.

types of soil in india भारत की मिटटी के प्रकार | Types of Soil In India

पीरपंजाल दर्रा (Peer Panjal Pass )

पीरपंजाल दर्रा (Peer Panjal Pass )|

  • पीर पंजाल दर्रा भारत के जम्मू और कश्मीर के पीर पंजाल पर्वतमाला में स्थित है.
  • इस दर्रे की उचाई समुद्र ताल से 3490 मीटर की है.
  • यह कश्मीर घाटी को जम्मू के राजोरी और पूछ से जोड़ता है.
  • इस पीर पंजाल दर्रा से मुग़ल सड़क गुजरती है.
  • राजतरंगनी के कवी कल्हण के अनुसार इस दर्रे के नाम पञ्चालधारा है.

बनिहाल दर्रा (Banihal Pass)

बनिहाल दर्रा (Banihal Pass)|

  • बनिहाल दर्रा की समुद्र ताल से उचाई 2832 मीटर है.
  • इसी दर्रे से NH-1A राष्ट्रीय राजमार्ग 1A (National Highway) निकलता है.
  • पीरपंजाल पर्वत श्रंख्ला(peer panjal mountain range) में आता है.
  • यह जम्मू कश्मीर राज्य में स्थित है.
  • जवाहर सुरंग भी इसी दर्रे में बनी हुई है.
  • बनिहाल दर्रा जम्मू और श्रीनगर को जोड़ता है.

बुर्जिला दर्रा (Burjila Pass)

  • बुर्जिला दर्रा (बुर्जिला पास) जम्मू कश्मीर में स्थित है. यह जम्मू को गिलगित से जोड़ता है.
  • इसकी उचाई समुद्र ताल से 4100 मीटर की है.

हिमाचल प्रदेश में दर्रे

हिमाचल प्रदेश में तीन महत्पूर्ण दर्रे (Important pass) है, जो निम्नलिखित है –

  • बारालाचा या बारालाचा ला दर्रा
  • शिपकीला दर्रा (शिपकी ला या शिपकी दर्रा)
  • रोहतांग दर्रा

बारालाचा या बारालाचा ला दर्रा

  • यह हिमाचल प्रदेश का दर्रा है जो हिमाचल प्रदेश के नगर मंडी और लद्दाख की राजधानी लेह को एक दूसरे से जोड़ता है.
  • बारालाचा या बारालाचा ला दर्रा मनाली और लेह को एक दूसरे से जोड़ने वाली नेशनल हाईवे पर स्थित है.
  • इसकी उचाई समुन्द्र ताल से लगभग 4843 मीटर की है.
  • यह जास्कर पर्वत श्रेणी में आता है.

शिपकीला दर्रा (Shipki la Pass)

शिपकीला दर्रा (Shipki la Pass)|

  • यह Shipki la हिमालय का ek दर्रा है जो शिमला को तिब्बत से जोड़ता है.
  • राष्ट्रीय राजमार्ग 5 पंजाब से चालू होकर हिमाचल प्रदेश में तिब्बत की सीमा रेखा शिपकी ला दर्रे पर जाकर ख़तम होता है.
  • शिपकीला दर्रा की उचाई समुद्र के तल से 4300 meter की उचाई तक है.
  • यह जास्कर पर्वत श्रेणी में आता है और सतलुज नदी इसके पास से ही भारत में Enter होती है.

रोहतांग दर्रा

  • रोहतांग दर्रा भारत के हिमालय का दर्रा पीर पंजाल श्रेणी में है.
  • यह दर्रा समुद्र तल से 4111 मीटर की उचाई पर स्थित है.
  • इस डारे का पुराण नाम भृगु-तुंग है.
  • रोहतांग दर्रे को लाहोल और स्पीति जिलों का प्रवेश द्वार भी बोलै जाता है.
  • इस दर्रे से व्यास नदी का उद्गम हुआ है.
  • यह दर्रा मनाली और लेह को आपस में मिलान करता है.

उत्तराखंड में दर्रे

  • लिपुलेख दर्रा
  • माना दर्रा
  • नीति दर्रा

लिपुलेख दर्रा

  • लिपुलेख दर्रा उत्तराखंड के पिथौरागढ़ को तिब्बत के तकलाकोट के साथ जोड़ता है.
  • इसकी उचाई 5334 मीटर की है.
  • यह दर्रा (पास) कैलाशपर्वत और मानसरोवर जाने वाले भक्तो और यात्रिको द्वारा सबसे अधिक काम आताहै.

माना दर्रा

  • यह दर्रा हिमालय में समुद्र ताल से 5545 मीटर की उचाई पर है.
  • इस दर्रे को दुनिया की सबसे ऊँची परिवहन योग्य सड़क भी पुकारा जाता है.
  • यह माना दर्रा उत्तराखंड को तिब्बत से जोड़ता है.

नीति दर्रा

  • यह दर्रा उत्तराखंड के कुमाऊ क्षेत्र में स्थित है.
  • यह उत्तराखंड को तिब्बत से कनेक्ट करता है.

सिक्किम में दर्रे

  • नाथुला दर्रा
  • जेलेप ला दर्रा

नाथुला दर्रा

  • नाथुला दर्रा हिमालय श्रंख्ला (Mountain range) सिक्किम राज्य को दक्षिण तिब्बत के चुम्बी घाटी को जड़ता है.
  • भारत और चीन के बीच होने वाला व्यापर और रेशम का कुछ हिस्सा व्यापार 80% नाथुला दर्रा के द्वारा होता है.
  • इस दर्रे से यानी सिक्किम के गंगटोक में केवल भारतीय नागरिक ही जा सकते है और इसमें जाने के लिए पास बनवाना पड़ता है. यह पास या वीजा होता है जिसको पारपत्र बोलै जाता है.
  • यह दर्रा सिक्किम में 4310 मीटर की उचाई पर है.
  • 1962 के भारत और चीन युद्ध के बाद इस मार्ग को बंद कर दिया गया लेकिन 2006 में व्यापार को एक नयी दिशा देने के लिया पुन्नः खोल दिया गया.

जेलेप ला दर्रा

  • यह दर्रा भारत के सिक्किम राज्य ने है. और भारत और चीन के बीच व्यापार इस दर्रे के माध्यम से किया जाता है.
  • इस दर्रे की उचाई ४ मीटर पर पूर्वी सिक्खिम में है.
  • यह डरा सिक्किम को चुम्बी घाटी में स्थित ल्हासा से जोड़ता है.
  • इस दर्रे के निर्माण तीस्ता नदी के द्वारा हुआ है.

अरुणाचल प्रदेश में दर्रे

  • बोमडिला दर्रा (Bomdila Pass)
  • यांज्ञाफ दर्रा (Yangyap Pass)
  • दीफू दर्रा (Diphu Pass)

बोमडिला दर्रा

  • Bomdila Pass अरुणाचल प्रदेश को तिब्बत की राजधानी ल्हासा से जोड़ता है.
  • यह दर्रा अरुणाचल प्रदेश में 2217 मीटर की उचाई पर स्थित है.
  • बहुत बार इस मार्ग पर भरी बर्फ़बारी के कारन यह मार्ग बंद रहता है.
  • तवांग में एक बहुत की प्रसिद्ध बौद्ध मठ है.

यांज्ञाफ दर्रा

  • यांज्ञाफ दर्रा भारत और चीन की सीमा रेखा पर स्थित है.
  • ब्रह्मपुत्र नदी भारत में इसी के पास से आती है.

दीफू दर्रा

  • दीफू दर्रा अरुणाचल प्रदेश और Myamaar की बॉर्डर पर है.

मणिपुर में दर्रे

तुजू दर्रा

  • यह दर्रा इम्फाल को म्यांमार से जोड़ता है.

केरल में दर्रे

  • पालघाट दर्रा या पालक्काड दर्रा
  • शेनकोट्टा दर्रा

पालघाट दर्रा या पालक्काड दर्रा

  • यह दर्रा केरल को कोयम्बटूर (तमिलनाडु) से जोड़ता है.
  • अन्नामलाई व नीलगिरि की पहाड़ियों के बीच मे है.
  • पालघाट दर्रा समुद्र ताल से 300 मीटर की उचाई पर है.

शेनकोट्टा दर्रा

  • यह दर्रा इलायची की पहाड़ियों या कार्डमम हिल्स में 210 मीटर की उचाई पर है.
  • यह तिरुवनंतपुरम (केरल) और मदुरै (तमिलनाडु) को एक दूसरे से जोड़ता है.

महाराष्ट्र में दर्रे

  • थालघाट दर्रा
  • भोरघाट दर्रा

थालघाट दर्रा

  • थालघाट दर्रा मुंबई और नासिक को आपस में जोड़ता है.

भोरघाट दर्रा

  • यह दर्रे की उचाई समुद्र ताल से 548 मीटर की है.
  • मुंबई को पुणे और चेन्नई से जोड़ता है.
  • NH-48 मुंबई और चेन्नई इसी दर्रे से होकर जाती है.
Guys, We Hope That About "Important Passes In India" is cleared in your mind. I think i have cleared all topic about India Passes and we recommanded just give any suggestion, have any question in your mind?

1 thought on “भारत के प्रमुख दर्रे 2021 | Major Passes in India”

Leave a Comment